Explore KVMT

All Dogri Sonnets

तेरी सत्ता मीं पता हा

मना च क्रोध हा बे-ऐंत्त, माता, तां गै में तुक्की
जुलाई उन्नी सौ बास्सी च षड़जैंतर गलाया हा।

निहा जकीन लेकन बिंद अपने आपै प मिक्की,
ते मीं इस बे-जकीनी नै बुरी चाल्ली डराया हा।

में तां गै डरदे-डरदे एह् भलोका लाना लाया हा,
जे इक दिन, तूं जरूरी, अपनी सत्ता दस्सी देनी ऐ ;

ते इक जकीन बनियै, लाना एह् मना च आया हा,
कोई मन्नै निं मन्नै, तूं अलबत्ता दस्सी देनी ऐ।

अगस्त उन्नी सौ छेआसी च एह् होआ जकीनी ऐ ;
तूं बारीदारें ते धर्म-अर्थ दे चुंगल त्रोड़े न,

ते अपनी लाज़वाल सत्ता कन्ने बीह्नी-बीह्नियै,
तूं अपने पाक दरबारा चा पापी कड्ढी छोड़े न।

ही पैह्लें बारीदारें दी प हुन भगतें दी बारी ऐ;
पुराने बक्त मुक्के न, नमें बक्तें दी बारी ऐ।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com