Explore KVMT

All Dogri Sonnets

केह् सच केह् झूठ

कृश्ण जी दी सजीली मूरतै दै सामनै आइयै,
पैंच्च पिंडा दे पुच्छन कुआरी माऊ गी इ’यां:-

”चड़ेले, मूंह् काला कीते दा ऐ, कुत्थें तूं जाइयै, –
कुआरे होंदे होई, दस्स गब्भन होई ही कि’यां?“

कुआरी मां बोल्लै, ”उच्चेओ, परमेषरो, पैंच्चो,
केह् बिजन मरदा दे बीरज दै, गब्भन होना निं मुम्कन?

तुस पूजा-जोग पांडुएं दी मां, कुन्ती थमां पुच्छो,
सूरज देवते नै जो कुआरी, कीती ही गब्भन।

जि’न्नै हस्ती बख्षी ही मसीहे गी चमत्कारी,
ओ कर्ता-धर्ता दुनियां दा सजाखा रब्ब कोह्का हा ?

मरियम माता, जिसगी पूजदी ऐ धरतरी सारी,
उसी पुच्छो हां पैंच्चो, जे जसू दा बब्ब कोह्का हा?

करगे केह् जे में आखां, मिरे सुखने च आया हा,
ते मिक्की पारवती दे, खसमै नै गब्भन बनाया हा?

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com