Explore KVMT

All Dogri Sonnets

ग्रैह्-गता दे लाने

जमान्ने दी अनैंत्त भाजड़ें ते राम-रौले चः
नबाकफ, अजनबी, इक-दूए तै द’मैं धड़े अस हे।

अनाम इ’यां-क जि’यां-अखें गास्सा दे झोल्ले च,
दो न पीले-भुस्से, नि’म्मे-नि’म्मे टिमकड़े अस हे।

प कुषबा सृष्टी दे पुषतैनी एह् निजम स्थापत हे,
साढ़ी ग्रैह्-गता दे गोचरी ग्रैह्-पथ बी निष्चत हे?

ते साढ़े ग्रैह्-पथें दा टाकरा होना जरूरी हा,
ते तेरा-मेरा एह्की जूना च मिलना जरूरी हा?

जुगें दे बाद इंदी गरदषें दी फेरमां बत्तें,
इक-दूए गी घड़ी गित्तै तक़्सीम कीता हा।

तांहियै साढ़ियें नषेई ते बलासमीं मत्तें,
इक-दूए गी पला गित्तै तसलीम कीता हा।

दुबारा तेरै कन्नै, दिलबरा, मिलने दी हीखी ऐ-
में लाने ग्रैह्-गता दे लान्नां, हत्थ दिक्खी-दिक्खियै।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com