Explore KVMT

All Dogri Sonnets

बंदशां

मनुक्खी हीखियें दी सेह्तमन्दी तै जरूरी ऐ,
मनुक्खी जिन्दगी च मुषकलां गै मुषकलां होना।

बगैर मुषकलें दै अरबला रौंह्दी अधूरी ऐ,
ते बिलकुल लाजमी ऐ जिन्दगी च आफतां होना।

बगैर ब’न्न ब’न्ने दे नदी दा पानी यख ठंडा,
कदें सोकें दी मारी दी जिमीं ज़रखेज़ निं करदा।

बिना पंजालिया दै दान्द होई जन्दा ऐ मषटंडा,
(बिना जुगड़े दे इसगी खेतरें च हल्ल निं चलदा:)

हवा दी बर-खिलाफ सम्मता च गुड्डी चढ़दी ऐ ;
ते बन्दष डोरा दी होन्दी ऐ तां गै बुत्त होन्दी ऐ।

ए जि’यां, पीड़ साढ़े कालजे च जिसलै तढ़दी ऐ,
मनुक्खी कामना बेताब होइयै जागी पौन्दी ऐ।

बगैर मुषकलें दै हीखियें च फिक्कापन होन्दा।
बगैर आफतें दै ज़िन्दगी च निक्कापन होन्दा।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com