Explore KVMT

All Dogri Sonnets

जवाब में उसी दिंदा

मिरी ; परमातमा कन्ने, मलाटी होई सुखने च।
सुआल ओ अगर करदा, जवाब में उसी दिंदा ?

कैह्ली, रूह् ऐ मषगूल मेरी, तपने-धुखने च ?
(त्रट्टां मारदी पीड़ें दा स्हाब में उसी दिंदा।)

की मैह्ल सद्धरें दे न बने दे बद-षकल खंडर,
चीस चाएं दी ऐ जिंदियें चूह्कें चा गूंजा दी,

ज़िल्लत, तांह्गें दी, पिट्ठी च, पैह्लें खोभियै खंजर,
बड़े हेजलपुने कन्नै, मिरे मुरदे नै पूंझा दी?

ओ मेरे तांईं चेचा आया हा, जकीन ऐ मिक्की,
ते मेरे ब्योरे च सचाई ही, पूरी हकीकत ही,

पर इक्क बारी बी नेईं दिक्खेआ उ’न्नै मिरी बक्खी,
फ्ही षायद, सच्च सुनने च उसी बझोई दिक्कत ही?

उदा परमातमातब होई जाना हा बड़ा नींदा,
सुआल ओ अगर करदा, जवाब में उसी दिंदा।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com