Explore KVMT

All Dogri Sonnets

कम्मनी

जला करना में अपने जिस्मा दी अग्गा गी भड़काइयै;
मी लोड़ कम्मनी दी ऐ, निं मिक्की कम्मनी थ्होन्दी।

मिगी पतेआंदी-याद माज़ी दी घड़ियें दी फ्ही आइयै,
मगर निं घोर काली मस्सेआ गी रोषनी थ्होेंदी।

त्रीमत गी ते दिन-भर बच्चें कोला बैह्ल निं मिलदी,
ते रातीं थक्की-हुट्टी जिसलै मेरै कोल औन्दी ऐ ;

मेरे नै लाड लान्दी ऐ, अति करदी ऐ हमदरदी,
प तौले गै ओ गूढ़ी नींदरा च कुद्दी पौन्दी ऐ।

मिगी ऐ याद, ओदी मिट्ठी पप्पी चासनी आंह्गर,
ते ओदा थरकना ते छड़कना बत्तोड़-जन होइयै ;

मेरे नै घोल करना बिफ्फरी दी षेरनी आंह्गर ;
मेरै नै चमकना बोढ़ी दी डींगी पौड़-जन होइयै,

ओ मेरी त्रीमते, भोली ते चंगी, सम्मनी कुड़िये।
मिगी तूं दे घड़ी ताईं पुरानी कम्मनी कुड़िये।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com