Explore KVMT

All Dogri Sonnets

गीत ते प्रीत

संभोगै कन्नै करने दै बजाए होर जोराबर,
कविता रचना दी तुलना कदें कीती निं जाई सकदी।

कविता-रचना दी तषबीह् कदें एह्दे थमां बेह्तर,
ते मेरे स्हाबें होर कोई बी दित्ती निं जाई सकदी।

संभोगै दे अनेकां रूप ते रद्द-ए-अमल होंदे
कदें एह् ऊरमा दिंदा, कदें तस्कीन दिंदा ऐ।

कदें ते तन-मलावे, मन-मलावे इक्कै पल होंदे;
कदें रंडी-मलावे आंह्गू एह् हीना करीं-दा ऐ।

कदें सुच्चा, कदें हवसी, कदें सुरगी, कदें नरकी
कदें अमरत दा घुट्ट ते कदें बिषपान होंदा ऐ

कदें ब्यापक, कदें हुच्छा, कदें गैह्रा, कदें ठरकी:
कदें कामल, कदें नाकामी दा उनबान होंदा ऐ।

जदूं होंदा ऐ मेल लगना ते त्राना ते प्रीता दा,
तदूं थ्होंदा सफल संभोग; सूखम, मुखड़ा गीता दा।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com