Explore KVMT

All Dogri Sonnets

अटल निष्चा जरूरी ऐ

एह् कंधा पर टंगोई दी घड़ी दा झूटदा लंगर-
निरंतर झूटदा रौंहृदा मझाटै अटल हद्दें दै,

ते मेरा मन बी, मीं लगदा ऐ, ऐन एसदे आंह्गर-
मझाटै ; भड़कदा ऐ, आपसी मखालफ जज़्बें दै।

ते इस निरंतर ते अनमुक्क भड़को-भड़की दै मूजब,
दिला च चैन दै थाह्रै सदा बे-चैनी रौंह्दी ऐ।

अगिनती मेदें दी अनैंत्त छड़को-छड़की दै मूजब,
दिला ते अकला दी आपूं-चें सत-तरफैनी रौंह्दी ऐ।

घड़ी दा बिगड़ना ऐ लाज़मी जेकर इदा लंगर-
द-भेठा, केंदर-रेखा दै बरोबर झूटना छोड़ै-

मना दा होना, बे-मैह्नी होई जंदा ऐ एह् जेकर,
मखालफ जज़्बें तैह्त भड़कना अपना तजी ओड़ै।

एह् जि’यां लंगरा तै-केंदरी-रेखा जरूरी ऐ-
मना तै, ठीक उ’आं गै अटल निष्चा जरूरी ऐ।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com