Explore KVMT

All Dogri Sonnets

पैह्ली मलाटी

बखली भौड़ा इच, कोल मेरै, आपें गै आइयै,
बड़े ध्याना कन्नै, दिक्खेआ ते भालेआ मिक्की।

बड़ी गै गर्मजोषी कन्नै, मिक्की छाती नै लाइयै;
बड़े गै पुर-तपाक लैह्जे नै कुआलेआ मिक्की, –

‘वियोगी’ तूं खुआन्नां एं ते ‘सागर’ मीं गलांदे न,
मिगी पालमपुरै नै प्यार ऐ, पालमपुरी आं में:

मलंग, जोगी ग़ज़लें दा सदागर मीं गलांदे न,
तम्हातड़ जोगियें दा यार ऐ, पालमपुरी आं में।।

उदी ग़ज़लें दी भरमाली ते मिट्ठापन गलानी दा,
में जींदे-जी ते हून, ता-उमर भुल्ली निसो सकदा।

उदे लफ्ज़ें दा जादू ते नषा सादक-ब्यानी दा,
मिरे दिला-दमागा उप्परा उ’ल्ली निसो सकदा।

समागम दे ओ मरियल ते नखेखल चार दिन ‘सागर’,
निहे सैह्ने-जुगे होने तिरी ग़ज़लें बिजन ‘सागर’।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com