Explore KVMT

All Dogri Sonnets

दुनियां

पेष सूधें दी चलदी निं दुनियां च – सुनी लैओ।
एह् दुनियां जाबरें दी ते चतेरें दी गझोकड़ ऐ।

एह् मेरा बाक चेता रक्खने तांईं लिखी लैओ,-
नितां ऐ भुल्ली जन्दा; चित्त म्हां-भारी भलोकड़ ऐ।

अनाड़ी लोकें नै एह् अक्खियां निं मेलदी रत्ता ;
बड़ी सुआरथी, डाह्डी ते जालम ते पसोकड़ ऐ।

भलोके राहियें गी एह् मारदी ऐ अद्धिया बत्ता ;
बड़ी घमंडी ते नखरीली ते मारू ते धाकड़ ऐ।

चतेरे समझदे न एह्दे भड़कीले सुआकें गी,
ते जाबर जानदे न कि’यां एह्दै कन्ने बाह् करना।

‘वियोगी’ छोड़ी दे तु’म्मी नखिद्धे फिकर-फाकें गी ;
तूं इन्नी फिकर इस अलगरजिया दी खाह्-मखाह् करना।

इसी जो फेरियै नज़रां, नज़र-अंदाज़ करदा ऐ,
ओ इसगी मात देइयै, एह्दै उप्पर राज करदा ऐ।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com