Explore KVMT

All Dogri Sonnets

नकारी गिनतरी

नदानी ऐ, नदानी ऐ:- खिनें गी गिनदे रौह्ने च:
उमर गी मिनदे रौह्ने च गै म्हेषां लग्गे दे रौह्चै:

ते गिनियै, बाकी किन्ने पल न आयू पूरी होने च,
फ्ही अपनी कीतियें, अनकीतियें मूजब अति रोचै।

दखावे दे परोले नै जदूं मन घाएं गी पोचै,
जमीर नैह्खरें कन्ने नमें थाह्रें उसी नोचै, –

तां लीन होई जाचै, रोना अस अपना गै रोने च ;
कचज्जे पच्छोताएं च, नखिद्धे जादू-टोने च।

अगर ऐसी नकारी सोचें इच्च अस नेईं पौचै,
खिनें दे म्हेरू जेल्लै रलन फ्ही कविता दे चैने च,

खिनें दी गिनतरी गी छोड़चै ते रामा नै बौह्चै, –
कोई क्लेष निं होन्दा तां आयू पूरी होने च।

बजाए गिनने दै खिन, जीने दे साधन जे मन सोचै-
तां अपनी ज़िन्दगी च की भ्राओ अस दुखी होचै?

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com