Explore KVMT

All Dogri Sonnets

हीखियां ते सोचां

ञ्यानी हीखियें मेरे नै बे-स्हाबा दगा कीता,
स्यानी सोचें भामें ज्हार बारी आइयै समझाया।

मगर सोचें दी मत्ता गी उनें हा अनसुना कीता,
ते उन्दी स्यानपा बक्खी दना बी रौं नेईं लाया।

बतौड़ हीखियें च गरमी ही नवीन जोषें दी,
प उन्दी टौह्रा बिच्च सैह्जता ते झक्क हैन्नी हा ;

दुरेडी तांह्ग कीती ही उनें गासा दे गोषें दी,
मना च, ओ थ्होई जाने दा बिलकुल षक्क हैन्नी हा।

डुआरी हीखियें मारी – मगर फंघें दी कमजोरी,
नै बाधा पाई ते निं हीखियां फी उड्डरी सकियां।

ते भामें सोचें गी ही अक्खरा दी उन्दी मूंह्-जोरी,
फिरी बी दारी कीती हीखियें दी-जिन्नियां बचियां।

ञ्यानी हीखियें गी सोचने दी सुर्त निं होई,
स्यानी सोचें गी किष आखने दी जुर्त निं होई।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com