Explore KVMT

All Dogri Sonnets

ब्याखेआ

में जेह्ड़ा कम्म फड़नां, ओदे च गलतान होई जन्नां –
एह् चंगी ही जां माड़ी ही मगर मेरी एह् आदत ही।

बो कविता रानिये, सघंद तेरी सच्ची में खन्नां, –
अमानत दिल तेरा लेइयै मिरे षा होइ खयानत ही।

में ऐसा रुज्झी आ हा जीने दे सगमी स्यापे च,
में तेरी सलगदी अग्गा दै उप्पर हत्थ निं सेके।

सुहागन साल चैह्दां कट्टे तूं नकली रंडापे च,
प रंडी कोखा आंह्गर मि’म्मी साल कट्टे हे एह्के।

दपासा ध्यान में करदा तां तु’म्मी खुष निहा होना,
ते जिम्मेवारियें बी मेरियें नेईं हा सिरै चढ़ना ;

तुगी संदोख मेरे प्यारा च रत्ती निहा थ्होना,
अऊं गलतान रौह्न्ना ओदे च जो कम्म में फड़नां।

ते तां गै अज्ज मेरे तत्ते-तत्ते चाऽ तेरे न,
ते मेरा रोम-रोम, आतमा ते साह् तेरे न।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com