Explore KVMT

All Dogri Sonnets

सुआल – जुआब

ओ मिरगा त्राहे दा तूं चैकड़ियां की भरा करनां?
मिरै पिच्छें षकारी कुत्तें दी टोल्ली ऐ लग्गी दी।

ओ भैड़े कुत्तेओ – की इसगी तंग करदे ओ इन्नां?
एह् पुच्छो मालकें कोला जिनें गी भुक्ख सलगी दी।

मीं दस्सो मालको कुत्तें गी ओह् कैह्ल्ली दुड़ा करदे?
असें केह् आखना? एह् प्रष्न पाओ साढ़ी भुक्खा गी।

ओ भुक्खे की तिरे षा त्रास-त्रास लोक डरदे न?
तुसें गी ईष्वर दस्सग-बनाया जिस मनुक्खा गी।

ओह् मेरे ईष्वर दस्सी दे तूं भुक्खा गी की रचेआ?
अऊं निरमोह् ते निष्काम आं-पुच्छो एह् बक्ता षा।

बक्ता दस्सी दे तेरे थमां दुनियां च केह् बचेआ?
मिरा ख्याल ऐ, चंगा होऐ जे पुच्छो प्रीता षा

ओ प्रीते दस्सी दे बक्ता थमां दुनियां च केह् बचदा?
अपनी मिरगनी तांईं ऐ – मिरगा दा स्नेह् बचदा।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com