Explore KVMT

All Dogri Sonnets

बाह्वे दे तीरथ दा बनज – बपार

त्रोड़न लगदी ऐ छिल्ली तै धम्मना दे जद पत्तर,
सुडौल, बांकड़ी, गोरी कुड़ी हाम्बी करी उबड़े:

बड़ी गै मुष्कलें रौंह्दे पड़े दे, कुरते दै अंदर,
मलैम, गोरे, अंगी-हीन, दो मम्मे उदे तगड़े।

कुड़ी दी मुफ्लिसी लब्भै निसो करदी बिधाता गी!?
में छिल्ली चाढ़दा बाह्वै, मगर बेकार ऐ इब्बी:

पंतें बेची ओड़े दा ऐ बाह्वे आह्ली माता गी;
ते जम्मू दे बषिंदें तै बनज-बपार ऐ इब्बी!

कन्नी मारदी, लेफड़ पतंगै आंह्गर रूह् मेरी,
उडदी जंदी ऐ जि’यां होऐ गुड्डी कटोई दी:

ओ कुड़िये जम्मू दे रवेइये मूजब किसमत एह् तेरी,
दरैंह्का उपर, दरकोलें दै आंह्गर ऐ टंगोई दी।

‘वियोगी’ बांकड़ी कुड़ी गी आखै, आ रली जाचै ;
ते जम्मू छोड़ियै कुदरै, खरी थाह्रा चली जाचै।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com