Explore KVMT

All Dogri Sonnets


हसदें दे भांबड़

ओ मेरे समकलीनो, हम-कलम ते हम-सुखन लोको,
में तुंदी मैह्फलें च मुद्दतें मगरा जिदन आया।।

तुसाढ़े कन्नै मिलियै, खुष होआ हा मेरा मन लोको,
दिला नै तुंदी आओ-भगता गी हा दिल थमां चाहे्आ।

बछोड़ें दे इनें साल्लें दा मीं अनैंत्त झूरा हा।
कसूर करने दा, एह् करने दै परैंत्त झूरा हा।

प जद अकादमी1 नै अस्सी2 दा अनाम मीं दित्ता
जली-बली गे तुंदे रोम-रोम, रूह् ते पित्ता।

सुआतम सील-सम्मन दिक्खियै मेरा, तुसें लोको-
एह् षायद सोची लैता हा जे मेरी कान्नी कमतर ऐ?

तुसाढ़ी दीन-पालन दी बुरी आदत ऐ हम-कलमो,
ते जेल्लै जानेआ तुसें जे मेरी कान्नी जाबर ऐ,-

”मिगी मिलदे ओ करियै जे-जेआ ते मारियै पैंचे,
बो बाच बोलदे ओ पिट्ठी ओह्लै नीच ते टुच्चे!“

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com