Explore KVMT

All Dogri Sonnets

डरौकल लोक

गुलाम, मैह्कमे दै धीन, लीन केह्रे काजै च:
न रौंह्दे, इकमुखी, ममूली, केह्री हस्तियें आह्ले ;

ते उंदी ल्हीम, न्हीफ, कम्बदी, नपुंसक बुआजें च,
एह्सास सुलकदे न ईन-हीन पस्तियें आह्ले।

उमर-भर दफ्तरें च रौंह्दे न बनियै निरे चूहे:
अलोप दफ्तरें दे साज़षी, छिछले रवाजें च –

ते दिन-भर फाइलें नै सिरखपाई करदे न भड़ुए,
ते संञां रक्खियै फाइलां संदूखें ते दराजें च,

ओ फौढ़ां मारदे न आपूं-चें घरें गी जंदे लै-
खढ़ंग अफ्सरें दी निंदेआ करदे न जी भरियै।

प अपने कुम्बें ते घरें दा खस्ता-हाल दिखदे गै,
रीटाइरमैंट्ट मिथदे न, मनें-बद्धा डरी-डरियै।

मघोरें बाह्र बैठी बिल्लियै षा न डरी जंदे,
प जेकर बाह्र निं औंदे फ्ही तां भुक्खे मरी जंदे।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com