Explore KVMT

All Dogri Sonnets

कींगरे गै कींगर

षुरू इच गीतकार, गीत लिखियै सोचदा ऐ एह्,
जे ओह्दी सोझा नै जीवन दा सार जान्नी लैते दा।

ते ओह्दी अक्खियें दै सामनै न कींगरे जेह्ड़े –
उनेंगी सारें कोला उच्चड़ा ऐ मन्नी लैते दा।

प जेल्लै अपने लफ्ज़ें दा नषा थोढ़ा उतरदा ऐ –
ते गीतकारा दा रुझान थोढ़ा गाढ़ा होंदा ऐ।

तां इस अकागरता मूजब उसी एह् साफ लभदा ऐ,
जे अपने लफ्ज़ें नै नषेई होना माड़ा होंदा ऐ।

ओ नज़री सामनै, प्हाड़ें दै पिच्छें, होर अनमुक्के,
असीम सिलसिले प्हाड़ें दे न खड़ोते दे ज्हारां।

ते साढ़ी बुद्धियें दी बुस्सतें दे घेरे न लौह्के।
कलेवर बड्डे न जीवन दे;-बड़ियां उच्चियां धारां।

जदांह् बी नज़र मारो कींगरे गै कींगरे लब्भन ;-
असीम म्हालिया दी चोटियें दे सिलसिले लब्भन

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com