Explore KVMT

All Dogri Sonnets

आगुएं दा हुनर

सचज्जे आगू निं डरदे कदें पबंदियें कोला।
कलेष, कष्ट ते कठनाइयें दी रीनी नेईं लांदे।

लगन दा रखदे न दिला दै अन्दर तिड़कदा कोला,
ते फूकां मारदे रौंह्दे, फफूहें षा निं घबरांदे।

जीभ कैद होइयै बी इस मूंहां दी बतीसी च –
पैह्रेदार दन्दें गी बी अपनै कम्म लांदी ऐ –

रुट्टी चापदे न दन्द सारे रीसो-रीसी च ;
सुआद आपें लैंदी, कम्म दन्दें षा करांदी ऐ।

दन्दें च घिरे होने करी टुक्कें दा डर होंदा,
प’ जीभ अपनी हुष्यारी दै मूजब बचदी रौंह्दी ऐ।

सचज्जे आगुएं दै कोल बी इयै हुनर होंदा –
उनें गी मुष्कलें नै बरतने दी जाच औंदी ऐ।

अनाड़ी लोकें तांईं प्रीत बी पठेड होंदी ऐ
सचज्जे आगुएं तै दुष्मनी बी खेढ होंदी ऐ।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com