Explore KVMT

All Dogri Sonnets

कुआरी सुहागन

जुआन डोगरी कविता ऐ अजकल गरम होई दी,
नमीं-नकोर ते परसिज्जली दी योनि दे माफक।

बतूरी लूर-लूर फिरदी ऐ बषर्म होई दी,
नबाकफ मरदें च नंगी-मनुंगी सोह्नी दे माफक।

ते पाठक, जिन्दे कन्ने बाबला नै एह् ब्याही ही:
हां, उन्दे इक्क-इक्क षारे उप्पर एह् ही मरदी, पर

एह् लाड़ी जेह्ड़ी लक्खां मेदां लेइयै सौह्रै आई ही,
मयूस होई दी ऐ अपने खसमा दी नमरदी पर।

सुहागन होन्दे होए बी एह्दा कुंवार निं त्रुट्टा:-
एदै षा इयै चंगा हा जे मोई रंडी होई जन्दी

ते सौदा होई जन्दा एह्दे जिस्मा दा खरा-खुट्टा,
फ्ही भामें इस मोई, किसमत-जली दी भंडी होई जन्दी;

कवि-बाबल थमां कोई ढंग निं पर सोचेआ जन्दा ;
ते प्योकै बैठी दी ब्याह्ता कुड़ी दा हाल ऐ मंदा।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com