Explore KVMT

All Dogri Sonnets

दोस्तहीन कामयाबियां

में फामां होए दा हा, आखेआ में-, ”प्यारेओ जारो;
मिरी कल्ले-मकुल्ले छप्पियै-जीने दी खाहिष ऐ।

मिरी नबेकली चूह्का च निं फराटियां मारो-
मिरी दरखास्त ऐ, मिन्नत ऐ, एह् मेरी गुजारष ऐ।“

अति रंजीदा होइयै दोस्तें तां छोड़ेआ मिक्की;
अति संजीदगी कन्ने में उंदा षुक्रिया कीता।

प, पल-भर कल्ले रेहियै अरबला लग्गन लगी फिक्की,
ते झूरें पेई आ मन-”दोस्तें गी की जुदा कीता?“

एह् भामें ठीक ऐ जे इक्कले खिन गब्भन होंदे न-
प न्हेरा जज़्बें दी कुक्खा च बे-अंदाज़ होंदा ऐ।

ते कल्ली सोचै दे कुआंस गासा कन्नें छ्होंदे न,
प कल्ली सोचें दा झूरा बी ला-अलाज होंदा ऐ।

में बिजन दोस्तें दै स्हारे दे न अनगिने सदमे,-
में तांहियें बारना उंदै’र अपने लाडले नग़्मे।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com