Explore KVMT

All Dogri Sonnets

तेरी मैह्कदी मुस्कान

तिरी मुस्कानै नै षुरूआत होंदी जिस सवेरे दी,
उदा दिन मैह्कदा रौंह्दा ऐ सूरज डुब्बने तोड़ी।

ते इस खषबोई दे असीम सर्ब-ब्यापक घेरे दी-
पलांभ पुजदी ऐ कणा-कणा दी नाभकें तोड़ी।

जदांह् जन्नां, जदांह् बौह्न्नां, में जो सोचां, में जो बोल्लां,
एह् तेरा मुस्करांदा चेह्रा रौंह्दा ऐ ख्यालें च ;-

तिरी खषबोई दियां मैह्कदियां मुस्तकिल कूह्लां,
लताफत भरदियां न जीने दे रुटीन फेह्लें च।

में जो लिखनां, में जो पढ़नां-कताबें च, खबारें च,-
में जो करनां, में जो मिथनां, में लाने जेह्ड़े बी लान्नां;

बपारै च, ब्यहारें च, बचारें च, अषारें च,-
तिरी मुस्काना दा गै अक्स सारी चीजें च पान्नां।

ते घर आइयै, में तरकालें, खुदाऽ दा षुक्रिया करनांः
निरंतर तेरी मुस्कानै दे थ्होने दी दुआऽ करनां।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com