Explore KVMT

All Dogri Sonnets

प्रीता दी लैह्री

खलल मेरे दमाका च मता पौन्दा ऐ जिस बेल्लै,
नकारी, निक्की-हारी माड़ी-मुट्टी गल्ला दै उप्पर;

मिरा बिष्वास, तारी भुल्लियै, डुबदा ऐ उस बेल्लै,
भरोसा मी निजो रौह्न्दा, रुआल, अल्ला दै उप्पर।

सरोखड़ अरबला दे टिपड़े अन्दर बिन पता लग्गे;
ग्रैह् चित्ता दे पन्ता गी फिरी मंगलीक लगदा ऐ।

यका-यक मेदें दे झांटे दे बाल होन्दे न बग्गे,
ख्याल खुदकषी दा ठीक, बिलकुल ठीक लगदा ऐ।

बो गोते खंदे लै बी सोच मी औन्दी ऐ एह् गैह्री,
(द्रोही डूह्गें दा भामें में जाइज़ा लेई निं सकदा।)

जदूं तक कायम ऐ एह् तेरी सोह्ल प्रीता दी लैह्री,
नकम्मी, कलमुंही हूजतें गी जित्तन देई निं सकदा।

ते तेरा चेता औन्दे गै दमाक हौला होई जन्दा,
सुआह् – रंजषें दा मकदा-मकदा कोला होई जन्दा।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com