Explore KVMT

All Dogri Sonnets

गलेल

बिजन गलेलै दे, घर बेहियै पढ़दा रौंह्दा में कुषबा,
बिजन गलेलै दै में पक्खरू मारन निहा जाना।?

गलेलै बिच्च पाइयै गोल-मोल चोनमां रोड़ा,
नषाना तित्तरा गी तक्कियै कदें निसो लाना।

ते जखमी होइयै काले तित्तरा नै डोलके खंदे,
कदें बी तेरे बंगले दै पास्सै, रुख निहा करना।

ते तु’म्मी तौले-तौले स्हेलियें कन्नै कुदै जंदे,
इदी भेठा फ्ही अपना खूबसूरत मुख निहा करना।

ते तेरे दिखदे-दिखदे तेरे पचोआड़ा दी ब’न्नी पर,
काले तित्तरा नै गोषका खाइयै निहा पौना।

तुगी तै ऐसियें घटनाएं दा जकीन हैन्नी पर,
प इंदे बाझ तेरा-मेरा मेल गै निहा होना।

मिगी बिष्वास ऐ पूरा जे कारण साढ़े मेलै दा –
छड़ी गलेल ऐ; एह् कम्म ऐ सारा गलेलै दा।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com