Explore KVMT

All Dogri Sonnets

सुत्ती दी जागृति

बराटी जागृति कैसी ही ओ जिसनै जगाया हा
ते जिसनै पुरखें दी बोल्ली गी ही पैयंबरी दित्ती?

ओ कैसी अग्ग ही जिसनै नेहा भांबड़ जलाया हा
ते अ’न्नी सूरदासी अक्खियें गी रोषनी दित्ती

ते अनपढ़ कालीदासा गी असीम बिद्देआ बख्षी ;
कबीरदासा गी ही दिब्ब, दैवी बाकफी दित्ती ;

लुटेरे बालमीकी गी पवित्तर कल्पना बख्षी ;
रिषी ब्यास दी कान्नी गी षकती बे-थ’वी दित्ती ?

मड़ा जागृति कुत्थें ऐ ? अज्ज केह् होआ उसगी?
समें दी इक्क अक्ख बंद, इक्क खु’ल्ली-खु’ल्ली दी,

‘वियोगी’ दी छड़ी कान्नी ऐ थोढ़ी दस्सा दी फुरती,
मगर केह् पेष चलनी ऐ बचारी कल्ली-मुल्ली दी ?

प एह्दै बावजूद तेज ऐ गति होआ करदी ;
त्रेह् रोज़-रोज़ घट्ट निं, मती होआ करदी।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com