Explore KVMT

All Dogri Sonnets

देरा च न्हेर ऐ

मटोटर होइयै, जेल्लै यार, यारें षा मनींदे नेईं,-
घड़ी ओ होंदी ऐ: कौड़ी, कुलैह्नी, काली, अपषगनी।

बज़ाह्र जीन्नें आं, बो दरअसल बिलकुल गै जींदे नेईं,-
हां, तेरे रोह्-रोस्से दा, असर एह् होंदा ऐ सजनी।

तिरै बगैर गुज़रे दे खिनें दा अनमना जुस्सा ;
उचाट ते दुआस, मरियल ते मुरझाया होंदा ऐ:

हर इक बस्तुआ दा रंग लगदा पीला ते भुस्सा,
ते लगदा बिजन तेरै जीन जीना ज़ाया होंदा ऐ।

तिरी माफी दा मुतलाषी, गलाऽ करदा ऐ सैह्मियै ;
मिगी हून तौले-तौले जे तूं माफी नेईं करी सकगा,

त्रान रौह्ग मेरी म्हेषां, तेरी गल्तफैह्मी ऐ;
में षायद अपनी गल्ती दी तलाफी नेईं करी सकगा।

तूं चिर लाइयै जे आई: भामें मेरी रूह् खिड़ी जाह्गी,
प लाज़म निं जे लागर जुस्सा बी मेरा हिड़ी जाह्गी।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com