Explore KVMT

All Dogri Sonnets

जघानूं

जघानूं कसबा ऐ – त’वी दै कंढै, प्हाड़ी दै उप्पर,
बड़ा गै खूबसूरत, मोकला परतीत होंदा ऐ।

कुसा अदना, कदीमी राजबाड़े नै इदै अंदर,
किला बनाए दा ऐ, बक्त जद बतीत होंदा ऐ,

मनुक्ख भुल्ली जंदा ऐ जे होई सकदा ऐ कुषबा, –
बगार प्रजा षा लेइयै किला उ’न्नै बनाया हा।

ते हून भामें दिंदा ऐ जघानूं कसबे गी षोभा,
प जबरन लोकें दा गौह् मारियै उ’न्नै चढ़ाया हा।

मगर में सोचनां, तारीख एह्दी जानियै पिछली,
इदे दिलकष नज़ारे च कोई तब्दीली निं औंदी।

मिरे तांईं ते इन्ना काफी ऐ जे न्हेरी रातीं बी,
इदै उप्पर करोडें तारें दी जद लोऽ ऐ पौंदी –

किले समेत एह् कसबा जघानूं षैल लगदा ऐ।
कुसा गी लग्गै निं लग्गै प साह्नूं षैल लगदा ऐ।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com