Explore KVMT

All Dogri Sonnets

दृष्टिकोन

में इक स्कूला दा, कोई त्रै-कु म्हीन्ने मुलाजम हा,
ते बच्चें नै बड़ा गै गूढ़ा ताल-मेल हा मेरा।

संजीदा ते सरोखड़-सीलमी, मेरा सुआतम हा;
गलांदे न, पढ़ाने दा तरीका षैल हा मेरा।

मगर हैडमास्टर (मालक बी हा जेह्ड़ा स्कूला दा),-
मिगी आखन लगा, ”जे ओदे षा निं आखेआ जंदा

प माल्ली हाल इन्ना जैदै ऐ भैड़ा स्कूला दा,
स्कूला च, तुसें गी रक्खना, बारा निसो खंदा।“

उसी पता हा, मीं पता ऐ, एह् गल्त-ब्यानी हीः
जिढ़ी दलील देइयै, उ’न्नै मीं मकूफ कीता हा।

ते ना-इन्साफी गी जरना, भाएं, मेरी नदानी ही,
प में चुप्प-चाप, ना-इन्साफिया गी होन दित्ता हा:-

छड़ा एह् सोचियै, बजह कोई जरूरी होनी ऐ,!
बचारे दी कोई अपनी कड़ी मजबूरी होनी ऐ!?

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com