Explore KVMT

All Dogri Sonnets

दमागी फोटो

तिरी पैह्ली मलाटी, मेरै कन्ने, याद ऐ मिक्की:-
खुषी बे-दाग पल-भर बे-मुहारी दिक्खी लेई ही,

खुषी नै चित्ता दी तख़्ती न्यारे रंगें नै लीकी,
दमागी कैमरे नै ओह्दी फोटो खिच्ची लेई ही।

तिरा ओ डोडी आंह्गर रूप,-तेरा मनचला हासा ;
मिरे नै मेलियै नजरां मिरे चित्ता च बेही जाना ;

मिगी रत्ती अन्देषा हैन्नी हा जे रौह्ना निं मासा,
ते मारू जिन्दगी च इन्दा सिर्फ चेता रेही जाना।

षदाई में गड़ाकें दा ते जीवन दे किले अन्दर,
अति मसरूफ आं, गलतान आं जीने दे झगड़ें च

ते इस जोखम-भरोची अरबला दे सिलसले अन्दर,
संजीदा मामलें ते पीड़ें दे बे-रैह्म रगड़ें च।

कदें-कदाएं पर इन्दे षा दूर नस्सी बी लैन्नां,
दमागी फोटो तेरा दिक्खनां ते हस्सी बी लैन्नां।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com