Explore KVMT

All Dogri Sonnets

समझोते थमां इनकार

सरासर सैह्जता नै जीन्दे लगदे न मिगी सारे ;
कमर-तरोड़ जतनें दै बिजन दिक्खां जिद्धर में।

अथक्क कोषषें दै बावजूद बी मगर, प्यारे ;
हमेषां जिंदगी च भोगदा आयां दलिद्दर में।

में जिल्लै, सरसरी तौरा पर परखां जिंदगानी गी,
ते सोचां, की गुज़ारी ओड़ी ऐ, फाके-फकीरी च?

बड़ी कठनाई कन्नै रोकनां अपनी गलानी गी,
ते फ्ही गलतान होइयै, (झूरनां,) अपनी सगीरी च।

मगर गौरा दे कन्नै परखियै लगदा पता मिक्की,
जे सैह्ज दौलतें तांईं ऐ आपा बेचना पौंदा,

ते हर पल दिक्खना पौंदा ऐ जोरा आह्लें दी बक्खी,
ते भामें जी करै रोने गी, फ्ही बी हस्सना पौंदा।

मिगी ओल्लै, फकीरी, तंगी, तुरसी बी खरी लगदी ;
दलिद्दर, किरसदारी, सुक्खी-मिस्सी बी खरी लगदी।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com