Explore KVMT

All Dogri Sonnets

बैष्णो-जातरा

क्रख़्त त्रिवढ़ियां तब्दील करियै मुस्कराह्टें च,
फरेबी रूहें च मठास ते मसकीनता भरियै,

ते टोरें च, बुआजें च, रवेइयें च ते घाटें च,
हलीमी आनदे सब जातरू न दीनता करियै।

पुजारी काबू करियै अपने बाह्रा दे बतीरें गी,
भजन गांदे न तेरे, बोलदे न तेरे जन्कारे।

पलेटी गिद्दियें च अपने ढलके दे षरीरें गी,
मरू जनानियां बी लांदियां न उच्चड़े नाह्रे।

मगर कटड़े षा लेइयै, तेरे दरबारा तगर माता,
बज़ाहर, सारे जीव-जंतु भामें षाकाहारी न ;

प एह्के बाह्रले बतीरे दै ओह्लै मगर माता ;
एह् लोक, अंदरा सारे दे सारे मासाहारी न।

ज़’बा होंदे निं कुक्कड़, भिड्डू, भाएं बक्करे इत्थें,
प बिकदे न तली दी आतमा दे डक्करे इत्थें।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com