आले

बगैर जीभ ल्हाए दे, बगैर होठ खो’ल्ले दे,
बगैर अक्खियें दी मैह्नी-खेज़ सैनतें राहें,

बगैर हिल्ल-डुल्ल दे, बगैर कूए-बोल्ले दे,
बगैर बुड़बड़ांदी बुढ़कदी मसूरतें राहें:

खमोष सोचें च चेता, तिरा तुआरदा आयां।
ख्यालें दी घनी छामां, में बैठे दे तुगी यारा,

पुकारा करनां, जिस चाल्ली तुगी पुकारदा आयां,
ते जिस चाल्ली तुगी पुकारदा रौह्न्नां, में हर ब्हारा।

मेरी रूहा गी बस्स नां लैना तेरा, भांदा ऐ,
की जे सफर ते सरबंध तेरै तक्क ऐ ओदा।

उस ञ्याने आंह्गर जेह्ड़ा माऊ गी बुलांदा ऐ,
की जे मां-मां आखने दा हक्क ऐ ओदा:-

कोई जिन्सी तलब, नां भुक्ख नां गै कम्म होंदा ऐ,
प जेल्लै मन करै, मां आखियै हसदा, पसोंदा ऐ।