Explore KVMT

All Dogri Sonnets

षून्य

धुरी उप्पर हसब-मैमूल धरती फिरा करदी ही,
ते सूरज गासा दियें पौड़ियें उप्पर चढ़ा दा हा।

हसब-मैमूल, बिलकुल नारमल दुनियां चला दी ही,
‘वियोगी’ बी हसब-मैमूल इक क्हानी पढ़ा दा हा।

ते सैह्बन, चान-चक्क एह् बिजन चेतावनी घटेआ,
जे इक धमाके कन्ने धरतरी दे पुरजे गे होई:

निजीपन धरतरी दी इक्क-इक्क चीजा दा म्हिसेआ,
करोड़ें भिन्नताएं बिच निं अंतर रेहा कोई:-

स्नेह, क्हीकतां ते हीखियां, बसोस ते दा’वे,
वियेागी, गासा, सूरज, धरतरी ते उफक ते तारे,

इरादें दी कड़ाहियें बिच तपदे लालसी लावे ;
घड़ी च हे रली गे षून्य दे बिच, सारे दे सारे।

खपत दुनियां दे टैंटें सर्ब-ब्यापक षून्य च होए,
भुलाइयै चेचगियां, इक्क-मिक्क षून्य च होए।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com