Explore KVMT

All Dogri Sonnets

बेइमानी

‘दीप’, डोगरी कविता दे बारे च तिरा परचा ;
सस्ती षोह्रता गी जित्तने दा हा जतन न्हीठा।

ते भामें होंदी रेही, किष ध्याड़े ओह््दी गै चरचा,
प ओदा अक्खर-अक्खर, मीं हा लग्गा हुच्छा ते झूठा।

में मन्ना नां, नपुख्ता ज़ैह्नियत गी बरगलाने च,
सुफल ही तेरी ओह् म’जमा-फरोषी बक्ती तौरा पर;

प तेरे म्हावरें दे खूबसूरत ताने-बाने च,
चकन्ने साधकें गी झूठ लब्भा दा हा मतबातर।

जे कोई होर होंदा, वेद पाल दीप तां षायद,
मिगी एह् परचा सुनियै, रंज ते बसोस नेईं होंदा?

प तेरे बाक सुनियै खोखले, झूठे ते बे-मक्सद,
मिगी मजबूर होइयै, सच्च एह् ऐ आखना पौंदा:-

”बिजन पढ़े कताबां, पारखी बनना ऐ बेइमानी,
ते झूठे राहें पैदा सनसनी करना ऐ बेइमानी।“

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com