Explore KVMT

All Dogri Sonnets

मयूसी

ओ पल, ओ जेल्लै तेरा-मेरा ताल-मेल हा होआ,
ओ पल बी मेरै उप्पर तेरै आंह्गर राज करदा ऐ।

एह् रूह् कैद्दी बनेआ हा ते मन रखेल हा होआ,
मगर पल तेरै आंह्गर गै नज़र-अंदाज़ करदा ऐ।

तिरै कन्ने मलाटी आह्ला, बांका पल ऐ ओ जेह्ड़ा,
ओ पल ऐ जिन्दु दी दलदल च कमला दी कली आंह्गर।

जां मट्ठा छोली – छोली मक्खना दा कड्ढे दा पेड़ा
जां भस्स छानियै कड्ढी दी सुन्ने दी डली आंह्गर।

मिरा मन करदा ऐ बक्ता गी में जबरन खडेरी लैं,
उदे षा खूसी लैं ओ पल में लाइयै जान्ना दी बाजी।

ते तुक्की खलकता दै सामनै बाह्में च घेरी लैं,
मगर तु’म्मी निं मिलदी, बक्त बी रुकदा नेईं पाजी।

मिरी हालत ऐ जि’यां बनदे-बनदे भाग फुट्टी जा,
सवेरै जागने मूजब सुहामा खाब त्रुट्टी जा।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com