Explore KVMT

All Dogri Sonnets

पाठकहीन डोगरी

में अक्सर पुच्छनां परमातमा गी बैठे दा कल्ला –
”-तूं मेरी मां-बोल्ली डोगरी कैह्ली बनाई ही ?

अगर एह् लाज़मी हा तां मिगी तूं दस्स हां अल्ला,
मी इन्नी शैल कविता आखना कैह्ली सखाई ही।

अस जोकी बोल्लिया गी सुनदे-सुनदे बड्डे होई जन्नें,
सुआए ओह्दी डंूह्गें दै कुदै बी झांकी निं सकदे,

ते अपनी तीखमीं सोचें गी इन्नी खूबिया कन्ने,
कदें बी सत्त-बखली बोल्लिया च आखी निं सकदे।

कदीम सिन्धु-काल्ला दी अज़ीम षैली ते सभता,
ओ गायब टिल्लें दे घट्टे दै हेठ होई ही जि’यां:-

बिना लोकें दे समझे दे एह् मेरी चीरमीं कविता,
मिगी लगदा ई भौ, लोप होई जानी ऐ एह् उं’आं !!!

भविक्खा च कुसा अगली नसल नै खोदना इसगी,
तां सिन्धी मोह्रें सांई नेईं कुसा न समझना इसगी।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com