Explore KVMT

All Dogri Sonnets

संदोखें दियां जात्तरां

तिरी हस्ती दै इच्च, मेरे ततै-सतै दे तोपे,
ते मेरे ओठें उप्पर, सील-गर्म ओठें दा दबाऽ

तेरी षख़सीयता बषकार, मेरे जुंगै दे तुनके,
ते साढ़ी छातियें दी धौंकनी बिच्चा निकलदे साह् ;

तेरा जिस्म मेरे कासमां, कसबी कलावे च,
ते तेरे पैरें दी सरगंढ मेरी पिट्ठिया उप्पर ;

रूहां, रिझदियां ते पकदियां इस हिरखी आवे च,
जि’यां दाने भुजदे न भखी दी भट्ठिया उप्पर।

उत्तेजित, खर्पदे सुआतमा दे उच्चे दै कन्नै,
में मकदे कोलें दे ढेरा दा सेक, ठ्होरियै लैन्ना,

चमेली दी मलैम डंडला आंह्गर, मनै कन्नै
ओ अग्ग ठ्होरना तां ओदा सेक होंदा ऐ दूना।

तिरा बत्तर, मिरा बत्तर, भंवर बनी जंदे न रलियै,
संदोख जात्तरां पांदे न साढ़े, उंबली-उंबलियै।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com