Explore KVMT

All Dogri Sonnets

कसूमत

सवेरै जागदे गै मुषकलें दा बैन पाया हा,
ओ भोली त्रीमते, तेरी फिकरमन्दी नकारी ही ;

अजें मेरे दमाका च ते सुखनें दी खमारी ही,
में रातीं सौने षा पैह्लें बी तुक्की एह् गलाया हा,

”मिगी चंगी तरह भाखे न दुनियांदारी दे टैंटे।
घ्रिस्ती च मगन रौह् छोड़ी दे बाह्रा गी मेरे पर।

ओ लिम-लिम, डरदे-डरदे दफ्तरा दे बे-दिले घैंटे,
तूं छोड़ उन्दी बे-रैह्मी, बुरी मारा गी मेरे पर।“

में चिंता समझना तेरी, जिदे इच प्यार ऐ तेरा।
सवेरै जागदे चेता कराया; केह् जरूरत ही?

तुगी में दोष निं दिन्दा, सुभाऽ गै ऐसा ऐ मेरा,
खुमारी उड्डी सुखनें दी, मिगी लग्गी कसूमत ही।

दिना दी मौत होई ही, सवेरै जमदे-जमदे गै,
ते साल लग्गा हा ओ दफ्तरी दिन लंघदे-लंघदे लै।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com