Explore KVMT

All Dogri Sonnets

अनदिक्खे नषान

नषान ज़िन्दगी दी बत्ता उप्पर अपने पैरें दे,
बड़े माना दै कन्ने छोड़दा ऐ आदमी, लेकन।

सवाए अपने आपा दै कुसा होरा गी निं लभदे,
ते उडदी भुब्बला दै हेठ छप्पी जन्दे न फौरन।

ते घास रस्ते दे बट्टें दी केवल दस्सी सकदी ऐ,
जे इत्थें मुद्दतें षा राहियें दा औना-जाना ऐ।

प बिलकुल दस्सी निं सकदी, कुसा गी कैह्दी जल्दी ऐ,
जां कोह्की मंज़लें दा राहियें गी मोह् नमाना ऐ।

मगर में जाननां हर माह्नू दा चेचा चलन होंदा,
ते हर – इक हस्ती दी अपनी टकोधी छाप होंदी ऐ।

बिजन दिक्खे खुदा गी मन्नना जि’यां कठन होंदा,
प सारी बे-जकीनी दूर अपनै आप होन्दी ऐ:-

जदूं कोई चान-चक्का गीत रूहा च फुरी औंदा,
ते सैह्बन जीभा उप्पर ईष्वर दा नां टुरी औंदा।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com