Explore KVMT

All Dogri Sonnets

जित्तो ते डीडो

द’मै हे ना-इन्साफियें दै फलसरूप मारे गेः
इक्क गोली नै, दूआ: छुरा, सीन्ने च खोब्भियै।

ते भामें, कारनामे, दौनीं गै धड़ें दे ष्हीदी हे,
प फर्क लगदा ऐ, इंदे च, ते, मीं चढ़दा रोह् बी है।

जितमल,-बावा जित्तो, बनी आ खुदकषी करियै,
प हक्क-तलाफी गित्तै, ओदी कुरबानी नपुंसक ही।

जालम सिक्खें गी बे-दखल कीता, डीडो नै मरियै
ते हिंसक करनियें बदलै, उदी करनी बी हिंसक ही।

मजूदा डोगरें दा, मानसक बतीरा ऐसा ऐ ;-
ओ मेले जित्तो दे लांदे ते डीडो गी भुलाई ऐठे!

रबेइया, उंदा अजकल होए दा बे-पीरा ऐसा ऐ,
ओ अपने हत्थें, अपने-आपा गी उस्सर बनाई ऐठे!

चतेरे चित्तरे, तुस डोगरी भिड्डो, बनी जाओ,
ते हक्क-तलाफी तांईं, जित्तो निं,-डीडो बनी जाओ।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com