Explore KVMT

All Dogri Sonnets

खुषी दा बाह्रला रूप

खुषी नचोड़ ऐ, रद्द-ए-अमल ऐ सूखम बिधियें दा;
खुषी दा बाह्रला कोई रूप निं, गड़ाके दै आंह्गर।

फ्ही जि’यां अर्थ-भाव, दस्सी निं सकै, कोई बदलें दा,
समान बेधदियें बिज्जें दे मलाके दै आंह्गर।

अमुक्क जापदी ऐ गिनदे बेल्लै पीड़ें दी गिनतर,
लमेरी जिंदगानी गब्भन होंदी ऐ गमें कन्नें।

ते पूरा, सिलसला साहें दा, लभदा निं ऐ होंदा, पर,
कदें-कदाली गुतलूं आई रलदे न दमें कन्नें,

ते फौरन रूह् मलाटी करदी ऐ जाबर समें कन्ने,
खुषी मरकूज़ होई जंदी ऐ, उस बेल्लै कनें अंदर-

ते हमदम मिलदे न दम साधियै फ्ही हमदमें कन्ने।
ते जि’यां मिलकियै बिजली दफाड़ करदी ऐ अम्बर:-

”खुषी, गमें दे डिग्गल चीरियै गड़ाके लांदी ऐ,
ते सारे चब्बू ते कचीचियां खोह्ल्ली टकांदी ऐ।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com