Explore KVMT

All Dogri Sonnets

मस’लती चुप्पी

अगर कोई चारा निं, तां आ कुड़े बखले बनी जाचै,
गले मिलियै-अस आपूं चें पुरानी स्हेलियें आंह्गर।

असें गी जो कोई दिक्खै, ओह् इ’यै, दिक्खियै सोचै-
-”जे बनतर किन्नी ऐ इंदे च यार-बेलियें आंह्गर!!“

मना च तर्क ते तराज ते झूरे भरी लैना-
इनें नकारियें चीजें च अत्त तकलीफ होंदी ऐ।

ते बाहमी भुल्ल-चुक्क माफ करियै अलबिदा कैह्ना,
स्यानप ऐ-तबीयत खुर्रम ते खुषहाल रौंह्दी ऐ।

करोड़ें सावधानियें दै बाद बी मनुक्खा षा,
कदें-काली ते माड़ी-मुट्टी गलती होई गै जंदी ऐ,

ते गलती बख्षने तै जे दिला नै दिल निसो मनदा,
तां बाहमी राबते गी त्रोड़ना गै अकलमंदी ऐ।

प नाता त्रोड़दे लै गुप्पी-चुप्पी गै खरी होंदी,-
नितां होंदी ऐ भंडी, हास्सो-हानी बी बड़ी होंदी।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com