Explore KVMT

All Dogri Sonnets

जीने दा करिष्मा

में अपनी जिंदगानी दा सबूरा सेक लैता ऐ
इदे षा कपकपांदा, खर्पदा आवेक लैता ऐ

रेहा मषगूल में एह्दे षा खुषियां खूस्सने अंदर,
मज़ें गी, ओठ लाइयै, तोपा-तोपा चूसने अंदर

करोड़ां कम्म तां करने दी मिक्की बेह्ल निं थ्होई
फिरी बी मेरी एह् उद्दम-परस्ती घट्ट निं होई

नषा कीता में अपनी जिंदगी च किसमें-किसमें दा
एह् दारू जाबर ऐ सबनें षा, जीने दे करिष्में दा

बचपन च, लड़कपन च, जुआनी च, बढ़ापे च
रेहा मसरूफ़ में समेटदा खुषबुआं आपे च

मिगी एह् ऐ खबर जे सिलसला म्हेषां निं रौह्ना ऐ
ते निष्चत बक्तै उप्पर मेरी बी मौतै नै औना ऐ।

उदे औने दे बक्तै दा मगर लाना निं में लाना,
प जिसलै औग, लाना टालने गित्तै निं कोई ब्हान्ना।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com