Explore KVMT

All Dogri Sonnets

लोथ – पूजन

में सूली चढ़ने दा ऐलान कीता तां एह् सुनदे गै,
फटाफट द्रौड़ियै आए हे बखले बी ते सज्जन बी।

ते बावजूद काह्ली दै, लेई आए हे औंदे लै:
चिखा तांईं देआरी लक्कड़ी, मुरदे तै कप्फन बी ;

ते आइयै मन-घड़ैंत्त क्हानियां घड़ना लगे ज्हारां,
ते मेरे झूठे चमत्कार ओह् गिनना लगे ज्हारां।

कुसै नै पुच्छेआ निं मीं, जे में की आं मरा करनां?
ते सींह्-जुआनी बेल्लै खुदकुषी में की करा करनां?

ओ मुरदें दे पुजारी होए किष मसरूफ़ हे ऐसे,
नड़ोऐ दी तेआरी इच ओ मिगी बी भुल्ली गे।

ते मेरे कोला बी मंगन लगे समाधी तै पैसे,
गुराही च नेह् रुज्झे जे ओ सूली बी भुल्ली गे।

में, तां ऐलान कीता, ”लोको में ईसा निसो बनना,
ते अगली नसलें तांईं मन-घड़ैंत्त किस्सा निसो बनना।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com