Explore KVMT

All Dogri Sonnets

अलबिदा

मिरी आमद मुजूं, तुसें अती खुंधक बझोई ऐ।
जकीन रक्खेओ, फजूल हर चिंता थुआड़ी ऐ,-

ते साढ़ा किष बी सांझा हैन्नी सो, दिक्खो धरोइयै,
नां रस्ते, नां सुआतम, नां गै सांझी आड़ी-बाड़ी ऐ।

तुसाढ़े पैंडे न लौह्के, बड़ी लौह्की डुआरी ऐ –
ते मेरे सफर होंदे न दुराडी ठंडी ब्हाएं च।

तुसाढ़े आंह्गू गै मेरा बी जीन मांसाहारी ऐ-
प डूंह्गे सबर ते जरनीकता ऐ मेरे साहें च।

परोखां करने आह्ले पारखियो, में समझियै कूंजां,
तुसें गी, – तुंदे कन्नें, मारियै डोआरियां रलेआ:

चबक्खै लब्भियां खूंखार लेकन उडदियां गिरझां-
तुसें गी अलविदा में आखियै तां जे टुरी चलेआ।

मिगी निं साथ तुंदा चाहिदा नां तुंदियां चीजां-
में तुंदै कन्ने रलेआ हा तुसेंई समझियै कूंजां।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com