Explore KVMT

All Dogri Sonnets

भविक्खबानी दे नीरन

में राजा बनना ऐ जां रंक, जां मी राहू-केतू नै,
षनी नै सार मेली-मेलियै, नकारी देना ऐ।?

मी नख़्लिस्तान थ्होने न, जां मी जीवन दी रेतू नै:
सोआब’ मंज़लें दे दस्सी-दस्सी मारी देना ऐ?

मिरे टिबड़े गी पढ़ियै, पंता मिक्की, की सुनाऽ करनां?
तूं ग्यानी-ध्यानी एं, मन्नी लेआ, बो दस्सियै मिक्की,

मिरे अगले दिनें दा नंद कैह्ली किरकरा करनां,
भबिक्ख-बानियें दे नीरनें च कस्सियै मिक्की?

अगाड़ी दे दिनें बारै, बिजन जाने, मी जीने च ;
जकीन कर मिरा पंता, बड़ा मज़ा ई आवै दा:

दना-हारा बी नंद रौंह्दा निं कताब, पढ़ने च,
अगर कोई ‘खीर’ दस्सै, पढ़ने षा पैह्ले कताबै दा।

मिरा जीना अपूरब ऐ जां अदना ऐ जां बे-मैह्ने,
में एह्दा नंद लैना ऐ, बिजन भबिक्खा गी जाने !

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com