Explore KVMT

All Dogri Sonnets

फरार

दिनें चा चोनमां इक दिन फरार में करी लैत्ता ;
ओदे नै जाई पुज्जा मानसर, रुक्खें दिया छामां।

ते गिनती कारोबारी छोड़ियै, में दिल भरी लैत्ता –
दनां यादें नै जिन्दा कोई निं सिरलेख, सिरनामां।

उसी सोह्गा करी लैता ते पिट्ठी’र बठाई लैता ;-
ते माहिर तारूएं आंह्गर रुआर-पार कीता में।

फिकर दे कप्पड़े गी खोह्लियै में नंगा न्हाई लैता ;-
दिला दी सम्मनी मेदें नै थोढ़ा प्यार कीता में।

बकाऊ जिन्दड़ी च मेरा इक्को-इक्क सरमाया,
दऊं अनमोल घड़ियें आह्ला, प्यारा, मांगमां ओ दिन।

बपारी षैह्रा च संञां’लै बापस में जिदन आया,
तां बीते दे दिनें नै जाई मिलेआ चोनमां ओ दिन।

खरै, मुड़ियै मलाटी होग तां, पनछान बी करगी ?
जां सिर्फ मेरै पासै दिक्खियै ओ र्हानगी करगी!!!?

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com