Explore KVMT

All Dogri Sonnets

टाइम – पीस

मेरी जिंदगी दे टाइम-पीस दी कमान्नी दे,
निरंतर खु’ल्दे रौंह्दे न प्लेस। केह् पता इसगी ;

कनेही; किन्नी देर पैह्लें चाबी दित्ती गेई ही ?
प्लेस खु’ल्लने आहले न बाकी रेह्दे हे किन्ने?

अधूरे कम्में दी भरमाली ऐ अनैंत्त, अनमुक्की, –
पता निं कोल्लै टाइम-पीस दा अलारम बज्जी जा।

पता निं कोल्लै मीं परमातमा, लै, दुनियां षा चुक्की?
पता निं कोल्लै मेरे साहें दा स्हाब मुक्की जा?

सकैंटें दी सुई आंह्गर ऐ मेरा दिल चला करदा।
में चाह्न्नां, आस्तै चलै, बो एह् निं आस्ता चलदा

अंकूरें च लखोई दी गति मूजब टुरा करदा, –
जिदे षा आस्तै निं एह् कुसै दै बास्तै चलदा !

ते मेरे कम्म पूरे होङन जां रौह्ङन अधूरे गै?
एह् भेत जानदे न सिर्फ ना-दीदा अंकूरे गै!!

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com