Explore KVMT

All Dogri Sonnets

यार प्यारा देई दे अल्ला

नज़ारें दा षलैपा, मेरे स्हाबें किष निसो होंदा,
जगह ओ षैल लगदी जित्थें बाकफकार रौंह्दे न।

कलापा होइयै माह्नू एह् मनो-मन सोचदा रौंह्दा,
”में काष उत्थें होंदा जित्थें मेरे यार रौंह्दे न?“

ऐष मैह्लें दी जां मेलें दी अनमुक्क खड़मल्ली,
दिला दा इक्कलापन लेष-मात्तर निं हरी सकदी।

मरुथल दे अकांता इच्च याद यारा दी कल्ली,
अगर सुच्ची होऐ तां माह्नू गी ऐ खुष करी सकदी।

अकांत चाह्ने आह्ले बी कदें-कालीं एह् चांह्दे न,
जे यार कोल होंदा अज्ज तां किन्ना मज़ा होंदा।

उसी ओह् आखदे ”कलापे खिन असें गी भांदे न,
प बिजन यारा दै अकांत बी यारो बुरा होंदा।

मिगी जीने गितै तूं भामें सदियां नेईं दे अल्ला,
प हर जींदे खिना गी यार प्यारा देई दे अल्ला।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com