Explore KVMT

All Dogri Sonnets

बे-बाजब हक्क

मिगी चाही सकी निं तूं, तुगी में बे-पनाह् चाहेआ।
दिला च बिजन तेरै, बिंद बी संतोष निं अड़िये,

ते तेरी बे-रुख़ी नै परती ओड़ी जीने दी काया,
पर एह्दै बिच्च तेरा बिंद बी ते दोष निं अड़िये।

जदूं कुआलियै तुक्की, दिला दी गल्ल दस्सी ही,
तूं चुप्प-चाप रेही ही, कोई परता निहा दित्ता।

भां, तेरी हस्ती, मेरी हस्ती दी नींहें च बस्सी ही,
मगर तूं चुप्प रेहियै बाजबी इन्कार हा कीता।

कुसै गी हिरख करना, हर कुसै दा हक्क ऐ जिंदे,
प हिरखै दी सुगम बिधिया दा एह् असूल ऐ पक्का:-

जे हिरखी हिरखै दै बदलै कदें बी हिरख निं मंगदे,
ते हिरखै बदलै हिरख मंगना, बिलकुल ऐ बे-हक्का।

तूं मिक्की चाही सकी निं, मरजी ही तेरी, खुषी तेरी,
मगर मसूस हाल्ली तिक्कर में करना कमी तेरी।

GREETING

We are glad that you preferred to visit our website.

X
CONTACT US

Copyright Kvmtrust.Com